Bewafa Shayari For Boys & Girl

Bewafa Shayari & Yaad Shayari In Hindi



प्यार इंसान को बदल के रख देता है 


बेवफा किसे कहते है :- बेवफा , हरजाई ,धोखेबाज, फरेबी, ये सारे शब्द दिल टूटने के बाद प्रयोग होते है. जब प्रेमी या प्रेमिका कोई एक किसी को भी धोखा देता हैं तो उसे बेवफा कहते हैं.जीवन में कुछ पल ऐसे आते हैं जब हम उनसे दूर हो जाते हैं जिन्हें बहुत चाहते हैं. जब एक प्रेमी या प्रेमिका किसी वजह से एक दुसरे से दूर हो जाते हैं और उन्हें लगता हैं कि जितना प्यार मैं करता था वो नही करती थी या जितना प्यार मैं करती थी वो नही करता था और धीरे-धीरे दूरियाँ बढ़ जाती हैं. उसे बेवफ़ा तो कहते हैं पर समझते नही है.


बेवफ़ा शायरी ( Bewafa Shayari ),याद शायरी (Yaad Shayari), उदास शायरी (Yaad Shayri), सैड शायरी ( Sad Shayari ), ब्रेकअप शायरी ( Break-up Shayari )  आदि मिलेंगे.
शायरी लड़की के लिए (Shayari for girl)
वक़्त का पासा 🎲 कभी भी पलट सकता है

तुम भी वही सितम करना जो खुद सह सको 🎯


⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰
प्यार करो तो धोखा  मत देना,
किसी को आंसुओ  का तोहफा  मत देना,
दिल से रोये कोई तुम्हे याद करके,
ऐसा मौका किसी को मत देना.
*
Pyaar karo to dhoka mat dena,
Kisi ko aashaoo ka tofha mat dena,
Dilse roye koi tumhe yaad karke,
aisa mauka kisi ko mat dena.

⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰
लिखो तो पैगाम कुछ ऐसा लिखो की कलम भी रोने पे मजबूर हो जाए,
लफ़्ज़ों में वो दर्द भर दो की पढ़नेवाला  भी मिलने पे मजबूर हो जाए.
*
Likho to paigaam kuch aisa likho ki kalam bhi rone pe majboor ho jaaye,
lafjo me wo dard bhar do ki padnewala milne pe majboor ho jaaye.

⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰

लोग अपना बना के छोड़ देते हैं ,
अपनों से रिश्ता तोड़ कर गैरो से जोड़ लेते हैं ,
हम तो एक फूल ना तोड़ सके,
ना ! जाने लोग दिल कैसे तोड़ देते हैं .

Log apna bana ke chod dete h,
Apno se rishta tod kar gairo se jod lete hai ,
Hum to ek phool na tod sake,
Najaane log Dil kaise tod dete hai .

⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰

आखिर क्यों?

मोहब्बत  न थी तो रिश्ता प्यार का बताया क्यों?
मुझको हसीं ख्वाब  देखना तुमने सिखाया क्यों?

Mohabaat na thi to rashta pyaar ka bataya kyu?
Mujhko haseen khaab dekhna tumne sikhaya kyu?

⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰

खुशियों से नाराज़ है  मेरी जिंदगी,
प्यार की मोहताज  है  मेरी जिंदगी,
हस  लेता हु लोगो को दिखाने के लिए,
वरना दर्द की किताब है  मेरी जिंदगी .


Khusiyo se naraaz h meri jindagi,
Pyaar ki Mohtaj  h meri jindagi,
Hash leta hu logo ko dikhaane ke liye,
Warna dard ki kitaab h meri jhid.

⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰

तेरी याद सताये !

सारी  उम्र आँखो में एक सपना याद रहा 
सादिया बीत गई पर वो लम्हा याद रहा ,
 न जाने क्या बात थी उनमें और  हम्मे 
सारी  महफ़िल भूल गए , बस वही चेहरा याद रहा 

Saari umar aakho me ek sapna yaad raha,
Sadiya bheet gai par wo lamha yaad raha,
Na jaane kya baat thi unme aur humme,
saari mahafil bhul gaye, bas waha chahara yaad raha.

⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰


एक दिन हम भी कफ़न ओढ़ जाएँगे,
हरेक रिश्ता इस ज़मीन से तोड़ जायेंगे,
जितना जी चाहे सता लो यारो,
एक दिन रुलाते हुए सबको छोड़ जाएँगे

Ek din hum bhi kafan ood jaayege,
Hare k rishta is jameen se tod jaayege,
Jitna ji chahe sataalo yaaro,
Ek din rulaate hue sabko chod jaayege

⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰

हमने तो इश्क़ में इतना बड़ा धोखा  खाया ,
फुलो न जख्म  दिए है  और चाँदनी  ने  जलाया  है ,
कैसे अकेले छोड़ू इस  शराब  को,
जिसने मुझे  उनके बिना  अकेले जीना सिखाया है ।

Humne to Ishq me itna bada dhokha khaya h,
Fulo ne jhakam diye h aur chadni ne jalaya h,
kaise akele choddu is sharab ko,
Jisne mujhe unke bina akele jina shikhaya h.

⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰
प्यार हमें  भी हैं, क्यु वो समझ  नहीं पाती है ,
जलती शाम  भी है  जुदाई में , क्यु  परवाने भुल जाते  हे,
शायद  साहिल की लहरे, समुंदर की गहराई  को समझ  नहीं  पाती है ,
इसलिऐ दिल टूटने से पहले , आँख  भर आती  हैं ।

Pyaar hame bhi h, kyu wo samaj nahi paati h,
Jalti shaam bhi h judaai me, kyu parwaane bhul jaate h,
Shaayad Sahil ki lahare, samundar ki gharai ko samaj nahi paati h,
Isliye Dil tutne se phele, aakh bhar aati h.


⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰
अजीब था उनका अलविदा कहना,
सुना कुछ नहीं और कहा भी कुछ नहीं,
बर्बाद हुए उनकी मोहब्बत में,
की लुटा कुछ नहीं और बचा भी कुछ नहीं.

Ajeeb tha unka alvida kahana,
Suna kuch nahi aur kaha bhi kuch nahi,
barbaad hue unki mohabbat me,
ki luta kuch nahi aur bacha bhi kuch nahi.

⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰
बिछड़ के तुमसे जिंदगी सजा  लगती है ,
यहाँ  सांस  भी जैसे  मुझसे ख़फ़ा  लगती है,
तडप उठा  हु दर्द के  मारे ,
जख्मों  को जब  तेरे शहर  की हवा लगती है ,
अगर  उम्मीद -ए-वफ़ा करू तो  कैसे  करू,
मुझको  तो  मेरी  जिन्दगी भी बेवफा लगती है।

Bichadke tumse Jindagi saja lagti h,
Yaha saas bhi jaise mujhse kafa lagti h,
Tadap utta hu dard ke maare,
Zakhmo ko jab tere sahar ki hawa lagti h,
Agar Ummeed-e-wafa karu to kaise karu,
Mujhko to meri Jindagi bhi bewafa lagti h.

⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰
उनकी मोहब्बत का अभी निशान बाकी हैं ,
क्या हुआ अगर देखके नज़र फेर लेते हैं ,
दिल की तसल्ली के लिए, उनकी एक याद ही काफी हैं
  .
Unki Mohabaat ka abhi nisaan baaki h,
Kya hua agar dekhke nazar fher lete h,
Dil ki tasalli ke liye, unki ek yaad hi kafi h.


⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰⇰

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां